नैनीताल संसदीय सीट: 6 बार हुए लोकसभा चुनाव में पं.गोविंद बल्लभ पंत परिवार का रहा दबदबा,27 वषों तक केसी पंत व ईला पंत रहे सांसद,चुनाव लड़ने वाले आज भी पंत परिवार से लेते हैं आशीर्वाद

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी: उत्तराखंड में लोकसभा चुनाव चल रहा है. कुमाऊं मंडल के नैनीताल संसदीय सीट सबसे हॉट सीट मानी जाती है।
नैनीताल लोकसभा सीट हमेशा से ऐतिहासिक सीट रही है इस सीट पर भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत परिवार का पिछले 27 सालों तक दबदबा रहा है.

नैनीताल संसदीय सीट गोविंद बल्लभ पंत परिवार की कर्मभूमि रही है और यहां उनके पुत्र और बहू सांसद बनकर केंद्र में मंत्री भी रह चुके हैं.
नैनीताल संसदीय सीट पर आजादी के बाद से देखा गया है कि भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ पंत परिवार का दबदबा रहा है. जहां उनके दामाद, बेटे और बहू भी सांसद रह चुके हैं.


देश के पहले चुनाव में 1951-52 में गोविन्द बल्लभ पंत के जवाईं सीडी पान्डे और 1957 के दूसरे चुनाव में भी कांग्रेस के ही सीडी पान्डे सांसद बनने में सफल रहे.
यह नहीं नैनीताल संसदीय सीट पर गोविंद बल्लभ पंत के पुत्र केसी पंत 1962 से लेकर 1971 तक लगातार 15 वर्षों तक इस सीट से सांसद रहे केसी पंत 26 वर्षों तक केंद्रीय मंत्रिमंडल में रक्षा, गृह, वित्त,शिक्षा, योजना, परमाणु ऊर्जा,बिजली,इस्पात इत्यादि मंत्री के रूप में बखूबी अपने दायित्व को निभाया है.
1962 के चुनाव में केसी पंत ने 64643 वोटो के अंतर से, जबकि 1967 के चुनाव में 33859 वोटो के अंतर से जबकि 1971 के हुए चुनाव में लगभग 100000 वोटो से जीत हासिल की थी.

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand: 55 प्रत्याशियों का भविष्य EVM में कम मतदान सियासी दलों की बढ़ाई चिंता किसको होगा नफा, कौन झेलेगा नुकसान-खास रिपोर्टर

ईला पंत नैनीताल संसदीय सीट से एकमात्र महिला सांसद रह चुकी है.आजादी के बाद कई वर्षों तक कुमाऊं की राजनीति में पंत परिवार का दबदबा रहा कई रिकार्ड भी अभी तक उन्हीं के नाम कायम हैं.
वर्ष 1998 में हुए चुनाव में नैनीताल-ऊधमसिंह नगर सीट से भाजपा ने पंत परिवार की बहू ईला पंत को चुनाव मैदान में उतारा था जहां ईला पंत भारी मतों से जीत हासिल कर संसद तक पहुंची थी.

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी-चुनाव ड्यूटी से लौट रहे टीचर की सड़क हादसे में मौत, परिवार में कोहराम

आजादी के बाद और उत्तराखंड बनने से पहले नैनीताल लोकसभा सीट पहाड़, भाबर व तराई वाले तीन तरह की भूमि के मिश्रणों वाली लोकसभा सीट हुआ करती थी इसमें उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की बहेड़ी विधानसभा सीट भी शामिल थी. राज्य बनने के बाद 2005 से 2007 तक नए सिरे परिसीमन की प्रक्रिया चली तो नैनीताल लोकसभा सीट अलग बनी. भारतीय जनता पार्टी ने एक बार फिर से पूर्व केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट को अपना प्रत्याशी बनाया है.
राजनीतिक जानकर भी मानते हैं कि नैनीताल लोकसभा सीट पर हमेशा से गोविंद बल्लभ पंत परिवार का दबदबा रहा है यही कारण है कि जो भी बड़े दल के प्रत्याशी सीट पर चुनाव लड़ता है तो पंत परिवार को अपने साथ लेकर चलता है और उनके आशीर्वाद से विजय प्राप्त करता है.

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें