Uttarakhand:US में डार्क वेब के जरिए मादक पदार्थ बेचने वाले हल्द्वानी निवासी युवक की जाने संपत्ति किस साम्राज्य,

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी: उत्तराखंड के हल्द्वानी के रहने वाले बनमीत सिंह को अमेरिका में डार्क वेब मार्केटप्लेस पर घातक और खतरनाक मादक पदार्थ बेचने के दोषी पाए जाने पर पांच साल की जेल की सजा सुनाई गई है. साथ ही उसके 150 मिलियन अमेरिकी डॉलर जब्त करने का आदेश दिया गया है.

हल्द्वानी के रहने वाले बनमीत सिंह को अमेरिका की अपील पर अप्रैल 2019 में लंदन में गिरफ्तार किया गया था. उसे मार्च 2023 में अमेरिका प्रत्यर्पित किया गया था.सर्कुलेट करने के इरादे से मादक पदार्थ रखने की साजिश और मनी लॉन्ड्रिंग की साजिश रचने के लिए उसे जनवरी में दोषी ठहराया गया था जहां अदालत ने इसी सप्ताह में 5 साल की सजा सुनाया है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड: पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़, एक को लगी गोली, दूसरा फरार-देखे-VIDEO

कोर्ट के अनुसार, बनमीत ने डार्क वेब पर मार्केटिंग साइट बनाई थीं. यहां वो ड्रग्स और कई दूसरी प्रतिबंधित दवाइयां जैसे फेंटानिल, एलएसडी, एक्सटेसी, केटामाइन और ट्रामाडोल बेचता था. वेबसाइट का नाम सिल्क रोड, अल्फा बे, और हन्सा था. ग्राहक ड्रग्स खरीदने के बाद क्रिप्टोकरेंसी के जरिए उसे पेमेंट करते थे.
जानकारी के मुताबिक बनमीत सिंह के पास 2012 से जुलाई 2017 के बीच अमेरिका में ड्रग्स बेचने के 8 सेंटर थे. ये सभी ओहायो, फ्लोरिडा, मैरीलैंड, न्यूयॉर्क और वॉशिंगटन में थे. बनमीत खुद ड्रग्स की शिपिंग भी कराता था वो यूएस मेल और दूसरी सेवाओं के जरिए यूरोप से अमेरिका तक ड्रग्स भेजता था. इसकी टीम के लोग ड्रग्स का शिपमेंट लेकर पैकिंग करते थे. इसने अमेरिका के सभी 50 राज्यों के अलावा कनाडा, इंग्लैंड, आयरलैंड और जमाइका जैसे देशों में ड्रग्स सप्लाई की थी.

यह भी पढ़ें 👉  करंट लगने से लाइनमैन की दर्दनाक मौत

बनमीत सिंह को अदालत से 5 साल की सजा सुनाई जाने और150 मिलियन अमेरिकी डॉलर जब्त करने का आदेश के बाद भारत की केंद्र सरकार की जांच एजेंसी ED भी सकरी हो गई है जहां आईडी ने आज हल्द्वानी स्थित बनमीत सिंह के परिवार में छापामारी की है.

अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें