अंधविश्‍वास: पुत्र प्राप्ति के लिए सगी बहनों को पिता-तांत्रिक बनाते रहे हवस का शिकार,माता-पिता समेत पांच लोग दोषी

ख़बर शेयर करें

विशेष पॉक्सो कोर्ट में मंगलवार को एक ऐसे मामले की सुनवाई पुरी हुई, जिसमें 14 और 16 साल की दो नाबालिग पुत्रियों ने अपने पिता पर ही दुष्कर्म का आरोप लगाया था।मामला बिहार के बक्सर में पारिवारिक और सामाजिक ताना बाना को तार-तार करते हुए रिश्तों को शर्मसार कर देने वाले एक मामले में विशेष पॉक्सो कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है. जिसमें करीब 14 और 16 साल की दो नाबालिग बेटियों ने अपने पिता पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था.

पीड़िता ने इस मामले में तांत्रिक समेत अपनी मां और मौसी समेत कुल पांच लोगों की संलिप्तता बताई थी. मामले की सुनवाई के क्रम में सभी आरोपितों को दोषी करार दिया गया है. इस मामले में अब सजा के बिंदु पर 12 सितम्बर को सुनवाई होगी.
बताया जा रहा है कि राजपुर थाना के एक गांव की रहने वाली दोनों नाबालिग बच्चियां 2012 से ही अपने पिता की हवस का शिकार बन रही थीं।

यह भी पढ़ें 👉  दर्दनाक हादसा: आगे चल रहे ट्रक से टकराई तेज रफ्तार कार, दो बच्चों समेत 7 लोग जिंदा जले-देखे-VIDEO

दरअसल, दंपती को कोई पुत्र नहीं हो रहा था, जिसके लिए वे स्थानीय तांत्रिक अजय कुमार के चक्कर में आ गए और उसी के सुझाव पर दोनों बच्चियोंं को हवस का शिकार बना डाला।


बाद में पुत्र होने पर तांत्रिक ने उन्हें बच्चे के ऊपर खतरा होने की बात बताते हुए अनुष्ठान की सलाह दी और इसके लिए दोनों बच्चियों को अनुष्ठान में शामिल किया। इस दौरान तांत्रिक समेत दो अन्य भी दोनों बच्चियों को हवस का शिकार बनाते रहे।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल हाईवे पर स्टेपनी बदलते टेंपो चालक को डंपर ने कुचला… मौत, पांच यात्री घायल


जुल्‍म झेलने से तंग आई बच्च्यिां बाद में किसी तरह हिम्मत कर बक्सर पहुंच गईं और एक व्यक्ति को अपनी समस्या बताई, तब उस व्यक्ति ने दोनों बच्चियों को पुलिस के पास पहुंचाया। पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए 28 अप्रैल को महिला थाना में केस दर्ज करवाते हुए तत्काल सभी आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था।

माता-पिता समेत पांच लोग दोषी: यह सब काफी दिनों तक चलता रहा. आखिरकार बच्चियां हिम्मत जुटाकर किसी तरह बक्सर पहुंची और एक व्यक्ति को अपनी पूरी कहानी बताई. उस व्यक्ति ने दोनों बच्चियों को पुलिस के पास पहुंचाने में मदद की. इसके बाद मामले की पूरी जानकारी तत्कालीन पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार सिंह तक पहुंची. तत्कालीन पुलिस अधीक्षक ने मामले पर संज्ञान लेते हुए 28 अप्रैल को महिला थाना में केस दर्ज करवाया. जिसके बाद कार्रवाई करते हुए पुलिस ने तत्काल सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:सीएम योगी के साथ लुक में नजर आए 'छोटे योगी'देखे-VIDEO


विशेष लोक अभियोजक ने बताया कि इस मामले की सुनवाई एडीजे 6 सह विशेष पॉक्सो कोर्ट के न्यायाधीश मनकामेश्वर प्रसाद चौबे की कोर्ट में स्पीडी ट्रायल के तहत चल रही थी. तमाम गवाहों के बयान सुनने के बाद कोर्ट ने मामले में माता-पिता समेत कुल पांच लोगों को दोषी पाते हुए सजा के बिंदु पर फैसला सुरक्षित रख लिया है.

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें