Uttarakhand News:19 करोड़ की साइबर ठग को उत्तराखंड पुलिस ने दबोचा

ख़बर शेयर करें

देहरादून: उत्तराखंड पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है इंस्टाग्राम पर विभिन्न कम्पनियों को रेटिंग करने के टास्क कर, पैसे कमाने के नाम पर देश भर में लगभग 19 करोड़ रुपए की ठगी करने वाले गिरोह के एक सदस्य को उत्तराखंड पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने गिरफ्तार किया है। संदिग्ध आरोपी के ऊपर पूरे भारत में राष्ट्रीय साइबर पोर्टल पर कुल 33 शिकायतें पंजीकृत हैं।

यह शिकायतें गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, दिल्ली व तेलंगाना में सामने आईं। एसटीएफ के पुलिस अधीक्षक (एसपी) आयुष अग्रवाल ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि देहरादून निवासी एक व्यक्ति ने इस आशय की शिकायत की कि किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा टेलीग्राम के माध्यम से सम्पर्क कर, उसे पार्ट टाईम जॉब कर लाभ कमाने का लालच दिया।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में फिर अतिक्रमण हटाने की तैयारी तेज: जानें पूरा मामला

जिसके पश्चात, उक्त अज्ञात व्यक्ति द्वारा मो0नं0 से वादी से सम्पर्क कर स्वंय को ‘आई ग्लोबल केपीओ कम्पनी’ से बताकर ऑनलाईन जॉब का ऑफर देते हुए टेलीग्राम ग्रुप में जोड़कर लगातार भिन्न-भिन्न कम्पनियों के नाम के लिंक भेजकर रेटिंग करने जैसे टास्क देकर लाभ कमाने का लालच दिया।साथ ही, अधिक लाभ कमाने का लालच देकर, भिन्न-भिन्न तिथियों में भिन्न-भिन्न लेन देन के माध्यम से कुल चौदह लाख रुपये की धोखाधड़ी की। उन्होंने बताया कि इस शिकायत पर साइबर क्राईम पुलिस स्टेशन, देहरादून पर मु0अ0सं0 19/23 धारा 420,120 बी भादवि व 66(डी) आईटी एक्ट बनाम अज्ञात का अभियोग दर्ज कर विवेचना निरीक्षक देवेन्द्र नबियाल को दी गयी।

यह भी पढ़ें 👉  पुण्यतिथि:उत्तराखंड की महान विभूति पं.गोविंद बल्लभ पंत की 7 मार्च को पुण्यतिथि, जगह-जगह होंगे कार्यक्रम:गोपाल सिंह रावत

अग्रवाल ने बताया कि अभियुक्तों के विरुद्ध कार्यवाही हेतु गठित टीम द्वारा घटना में तकनीकी विश्लेषण से प्रकाश में आये अभियुक्त ऋतिक सेन पुत्र मुकेश सेन, आयु 23 वर्ष, निवासी निकट पटवार भवन, मुकुन्दपुरा रोड, जयसिंहपुरा, भान करोटा, जयपुर (राजस्थान) को जयपुर से गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त के विरुद्ध विभिन्न राज्यों में कुल तैतीस मामले दर्ज हैं।

उन्होंने बताया कि अभियुक्तगणों द्वारा फर्जी वैब साईट तैयार कर स्वंय को ‘आई ग्लोबल केपीओ कम्पनी’ के कर्मचारी/अधिकारी बताते हुये ऑनलाईन जॉब कर लाभ कमाने की बात कह, टेलीग्राम ग्रुप में जोड़ते हैं। तत्पश्चात, विभिन्न कम्पनियों के नाम के लिंक भेजकर रेटिंग करने आदि टास्क देकर लाभ कमाने के नाम पर धोखाधडी करते हैं। उन्होंने बताया कि ये धोखाधडी से प्राप्त धनराशि को विभिन्न बैक खातो में जमा करवाकर उक्त धनराशि का प्रयोग करते है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:मौत के बाद दुष्कर्म पीड़िता नाबालिग को मिला इंसाफ,आरोपी को मिला 20 साल की कारावास

उन्होंने बताया कि अभियुक्तगण द्वारा उक्त कार्य हेतु फर्जी सिम आईडी कार्ड का प्रयोग कर अपराध कारित किया जाता है। अभियुक्त द्वारा विभिन्न मोबाईल हैण्डसेट, सिम कार्ड व फर्जी बैंक खातों का प्रयोग किया जाता है। कुछ पीडितों से एक मोबाईल फोन, सिम कार्ड व बैंक खाते का प्रयोग कर धोखाधड़ी करने के बाद इनके द्वारा नये सिम, मोबाईल हैण्डसैट व बैंक खातों का प्रयोग किया जाता है।

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें