Uttatakhand: बहुत खूबियों वाला है यह पांच पहाड़ी फल, औषधि गुणों से है भरपूर, खाकर जरूर आजमाएं

ख़बर शेयर करें

उत्तराखंड अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के साथ-साथ यहां के पेड़ पौधे औषधि गुणों से भरपूर है. ऐसे में अगर आप उत्तराखंड में है तो उत्तराखंड की प्राकृतिक फलों का सेवन अवश्य करें गर्मी के सीजन में इन दोनों पहाड़ों पर बहुतायत मात्रा में पहाड़ी फल तैयार हो चुके हैं, पहाड़ पर इन दोनों आड़ू ,खुमानी,पुलम और काफल पक कर तैयार हो चुके हैं.

पहाड़ी क्षेत्रों में उगने वाला एक मीठा और स्वादिष्ट फल है. आडू का रंग हल्का गुलाबी होता है और इसकी चमकदार त्वचा होती है. इसका स्वाद मीठा और खट्टा होता है, जो इसे बहुत पसंदीदा बनाता है. आडू में विटामिन C, विटामिन A, कैल्सियम, पोटैशियम और भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है. इसके सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है और पाचन सिस्टम को संतुलित रखने में मदद मिलती है. आडू फल स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है और यह बीमारियों से लड़ने की क्षमता को भी बढ़ाता है और शरीर को हाइड्रेट रखता है.

यह भी पढ़ें 👉  Haldwani News:कार ने स्कूटी में मारी टक्कर ,कैंची धाम ड्यूटी जा रहे दो पुलिसकर्मी गंभीर घायल

पहाड़ी क्षेत्रों में पाए जाने वाले प्रमुख फलों में से एक है. यह छोटे पेड़ों पर आमतौर पर गर्मियों के मौसम में उगता है. इसका वैज्ञानिक नाम Myrica esculenta myrica esculata है. काफल का स्वाद मीठा और खट्टा होता है, जो इसे लोगों के बीच लोकप्रिय बनाता है. यह विभिन्न प्रकार के विटामिन और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है. पहाड़ी क्षेत्रों में होने वाला ये फल स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है. गर्मी में शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता.

पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाने वाला एक प्रमुख फल है. यह छोटे पेड़ों पर उगता है और स्वाद में मीठा और खट्टा होता है. इसका वैज्ञानिक नाम Prunus domestica है. इसमें विटामिन C, विटामिन A, कैल्शियम, पोटैशियम जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं. पूलम के सेवन से शरीर के रक्त संचार में सुधार होता है और इसमें पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा होने से स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है. ये फल लोगों को व्यापारिक और आर्थिक रूप से भी लाभ पहुंचाता है. शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने में मदद करता है.

यह भी पढ़ें 👉  Haldwani News:कार ने स्कूटी में मारी टक्कर ,कैंची धाम ड्यूटी जा रहे दो पुलिसकर्मी गंभीर घायल

पहाड़ी क्षेत्रों में उगने वाला एक प्रमुख फल है, जिसका स्वाद मीठा और खट्टा होता है. यह अक्सर गर्मी के मौसम में उगता है. इसमें विटामिन C, विटामिन A, पोटैशियम, और फाइबर जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो इसे स्वास्थ्य के लिए लाभकारी बनाते हैं. खुबानी के सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है. पाचन क्रिया में सुधार होता है और त्वचा को साफ बनाए रखने में मदद मिलती है. इसके अलावा यह फल बीमारियों से लड़ने की क्षमता को भी बढ़ाता है और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है.

पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाने वाला एक प्रमुख फल है, जो मीठा और स्वादिष्ट होता है. यह पेड़ों पर उगता है और आमतौर पर शीतल मौसम में परिपक्व होता है. इसका रंग हल्का पीला होता है. इसकी चमकदार त्वचा होती है. रामफल मीठा और गंधदार होता है, जो इसे लोगों का बहुत पसंदीदा फल बना देता है. यह फल विटामिन C, विटामिन A, कैल्सियम, पोटैशियम और आयरन से भरपूर होता है. इसे खाने से शरीर को ऊर्जा मिलती है और वजन नियंत्रित रहता है. इसके अलावा यह पाचन को सुधारता है और त्वचा को भी स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है.
नैनीताल जिले के रामगढ़,धारी, भीमताल व ओखलकांडा ब्लॉक में आडू, खुमानी, पुलम आदि काबहुतायत से उत्पादन होता है. प्रदेश में उत्पादित होने वाले आडू में 70
प्रतिशत हिस्सेदारी केवल नैनीताल जिले की है.जहां करीब आठ हजार से अधिक काश्तकार फलों के उत्पादन से जुड़े हुए हैं.

यह भी पढ़ें 👉  Haldwani News:कार ने स्कूटी में मारी टक्कर ,कैंची धाम ड्यूटी जा रहे दो पुलिसकर्मी गंभीर घायल

पहाड़ के फल स्वाद के साथ-साथ कई औषधीय गुणों से भरपूर हैं जिससे लोग इन्हें बड़े चाव से
खाते हैं. इन फलों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ एंटी ऑक्सीडेंट गुण भरपूर मात्रा में है.

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें