Vanilla:आप भी वनीला की खेती कर कमा सकते हैं लाखों रुपए,50 हजार रुपये किलो बिकते हैं इस फसल के बीज,

ख़बर शेयर करें

आप वनीला की खेती करके अच्छी कमाई कर सकते हैं। इस फल की कई देशों में काफी डिमांड है। भारतीय मसाला बोर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, पूरी दुनिया में जितनी भी आइस्क्रीम बनती है, उसमें से 40% वनीला फ्लेवर की होती हैं।

सिर्फ आइस्क्रीम ही नहीं बल्कि केक, कोल्ड ड्रिंक, परफ्यूम और दूसरे ब्यूटी प्रोडक्ट्स में भी इसका काफी यूज होता है। वनीला की डिमांड भारत की तुलना में विदेशों में ज्यादा है। ऐसे में माल विदेश भेजने पर बड़ा मुनाफा होता है।

वनीला का सबसे अधिक उपयोग आइसक्रीम बनाने में किया जाता है. कहा जाता है कि पूरी दुनिया में जितमी आइस्क्रीन बनती है, उसमें 40 प्रतिशत में वनीला फ्लेवर का ही इस्तेमाल किया जाता है. खास बातस यह है कि वनीला का उपयोग सिर्फ आइस्क्रीम बनाने में ही नहीं किया जाता है, इससे परफ्यूम और ब्यूटी प्रोडक्ट्स भी तैयार किए जाते है. साथ ही केक और कोल्ड ड्रिंक भी बनाया जाता है. वहीं, जानकारों का कहना है कि वनीला आर्किड परिवार का सदस्य है. यह एक बेल पौधा है, जिसका तना लंबा और बेलनकार होता है. इसके फूल को सुखाने पर उससे खुशबू निकलती है. इसके एक फल से कई सारे बीज निकलते हैं.

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:पति के प्रेमिका से परेशान पत्नी ने ननद-देवरानी के साथ मिल कर दिया कांड

अगर आप वनीला की खेती करना चाहते हैं, तो भुभुरी मिट्टी पर ही इसकी फार्मिंग करें. मिट्टी का पीएच मान 6.5 से 7.5 होना चाहिए. इसकी फसल 25 से 35 डिग्री टेंपरेचर के बीच अच्छी तरह से ग्रोथ करती है. ऐसे छायादार जगहों पर वनीला की उपज अच्छी होती है. अगर आप चाहें, तो टीन शेड के अंदर भी इसकी खेती शुरू कर सकते हैं. ऐसे वनीला की फसल 3 साल में तैयार हो जाती है. यानी कि तीन साल बाद आप पैदावार काट सकते हैं.

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:फैंसी नंबर की ऐसी दीवानगी,0005 नंबर के लिए खर्च किए चार लाख से अधिक, इतने में तो आ जाती दूसरी कार

वनीला के बीजों की बुवाई दो तरह से की जा सकती है। इसमें पहला तरीका कटिंग और दूसरा बीज विधि है।

वनीला का बीज काफी छोटा होता है, जिससे उसे उगने में अधिक समय लग जाता है। वहीं बेल के रूप में लगाना काफी अच्छा होता है, किन्तु बेल की कटिंग बिल्कुल सही होनी चाहिए। दो कटिंग के मध्य तक़रीबन 8 फ़ीट दूरी होनी चाहिए, ताकि पौधों की लतायें आसानी से फैलाव कर सकें। इन लताओं को 7 फ़ीट लम्बे सीमेंट के पिलर या लकड़ी के साथ बांध दें, ताकि बेल आसानी से फ़ैल सके।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:पति के प्रेमिका से परेशान पत्नी ने ननद-देवरानी के साथ मिल कर दिया कांड

वनीला के फूलों को तैयार होने में 9 से 10 महीने का समय लग जाता है। इसके बाद पौधों से बीजों को निकाल लिया जाता है। बीजों को प्रसंस्करण कर खाद्य पदार्थों का निर्माण करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

विशेषज्ञों की माने तो एक एकड़ में अगर वनीला की खेती करते हैं, तो आपकों 2400 से 2500 बेल लगानी पड़ेगी. बेल में जब फूल पकने लगते हैं, तो समझें कि बीजों को निकालने का समय आ गया है. कई स्टेप में प्रोसेस होने के बाद इसके बीज मार्केट में बिकने के लिए आते हैं. अभी भारत में इसके एक किलो बीज की कीमत 50 हजार रुपये है

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें