हल्द्वानी: प्राइवेट फिटनेस सेंटर पर वाहनो के फिटनेस की सरकारी शुल्क निर्धारित,देखे किस वाहन को कितना चुकाना होगा शुल्क

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी: कुमाऊं की आर्थिक राजधानी हल्द्वानी में वाहनों के फिटनेस जांच के लिए प्राइवेट फिटनेस सेंटर खुलने के बाद से ही फिटनेस सेंटर और गाड़ी मालिकों के बीच फिटनेस को लेकर विवाद देखा जा रहा है. ऐसे में परिवहन विभाग का कहना है कि प्राइवेट फिटनेस सेंटर को सरकार ने नई पॉलिसी के तहत दिया है अब सभी प्रकार के वाहनों का फिटनेस प्राइवेट फिटनेस सेंटर में होगा.


संभागीय परिवहन अधिकारी हल्द्वानी संदीप सैनी ने बताया कि फिटनेस सेंटर में सरकार द्वारा निर्धारित फ़ीस और नियम के तहत ही प्राइवेट फिटनेस सेंटर में वाहनों का फिटनेस किया जा रहा है. वाहनों के अलग-अलग कैटेगरी के लिए सरकार द्वारा निर्धारित फ़ीस निर्धारित किया गया है. जहां फिटनेस सेंटर द्वारा इंस्पेक्शन चार्ज, ग्रीन सेस, यूजर चार्ज, सर्टिफिकेट फीस लिया जायेगा.सरकार द्वारा 15 साल पुरानी टैक्सी -मैक्सी वाहनों की फीस ₹1500 निर्धारित किए गए जबकि 15 साल से ऊपर के टेक्सी मैक्सी वाहनों को ₹1900 चुकाने होंगे.

यह भी पढ़ें 👉  मेरी औकात ये है…कहते हुए दामाद ने ससुर को गोली मार की हत्या, पत्नी को विदा नहीं करने से था नाराज, देखें दिनदहाड़े हत्या का LIVE-VIDEO


15 साल से कम टू व्हीलर के लिए ₹1300 जबकि 15 साल से ऊपर दो पहिया वाहनों के लिए ₹1400 चुकाने होंगे.15 साल से कम तीन पहिया वाहनों को ₹1500 चुकाने होंगे जबकि 15 साल से ऊपर के तीन पहिया वाहनों को ₹1900 चुकाने होंगे.
इसके अलावा 15 साल से कम छोटे ट्रक और बस को ₹1900 चुकाने होंगे जबकि 15 साल से ऊपर छोटे ट्रक और बस को ₹2200 चुकाने होंगे. इसके अलावा 15 साल से कम हैवी ट्रक के लिए ₹1900 चुकाने होंगे जबकि 15 साल से ऊपर वाले हैवी ट्रक के लिए फिटनेस के लिए 2400 ₹देने होंगे.

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:दर्दनाक हादसे ने छीन ली चार लोगो की जिंदगी, जा रहे थे मंदिर मौत के मुंह में समा गए


संभागीय परिवहन अधिकारी संदीप सैनी ने बताया कि बढ़ते सड़क हादसों के देखते हुए सरकार द्वारा नई पॉलिसी के तहत वाहनों को निजी फिटनेस सेंटर के माध्यम से अति आधुनिक मशीनों से वाहनों की फिटनेस की जा रही है.
उन्होंने कहा कि फिटनेस सेंटर में अगर कोई वाहन अनफिट होता है तो उसकी फिटनेस नहीं होगी. फिटनेस सेंटर में फेल हुए वाहनों को ठीक करने के बाद वाहन स्वामी अपने वाहनों को फिटनेस कर सकता है.
प्राइवेट फिटनेस को लेकर गाड़ी मालिक सवाल भी खड़े कर रहे हैं ऐसे में परिवहन विभाग ने कहा है कि अभी तक उनके पास किसी तरह की कोई लिखित शिकायत नहीं आई है अगर कोई शिकायत आती है तो फिटनेस सेंटर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:सीएम योगी के साथ लुक में नजर आए 'छोटे योगी'देखे-VIDEO

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें