देहरादून बड़ी खबर UKSSSC : मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने दिए दरोगा भर्ती की जांच के दिए आदेश

ख़बर शेयर करें

देहरादून : UKSSSC पेपर लीक मामले में 2 दर्जन से अधिक लोगों की एसटीएफ गिरफ्तारी कर चुकी है जिसके बाद कई अन्य पेपर लीक के मामले में अब धीरे-धीरे उजागर हो रहे हैं ऐसे में प्रदेश सरकार कई भर्तियों पर उठे सवाल के बाद जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर धामी ने 2015-16 में हुई एसआई भर्ती की जांच के आदेश दे दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि, जांच में दोषी पाए जाने वालों पर रासुका और गैंगस्टर लगाया जाएगा और संपत्ति भी जब्त की जाएगी। इससे पहले शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय ने दरोगा भर्ती की विजिलेंस या किसी दूसरी स्वतंत्र एजेंसी से जांच करवाने का प्रस्ताव सरकार को भेजा था। इस सिफारिश से इस बैच के दरोगाओं में हड़कंप मच गया है।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी निवासी फौजी हिमांशु दफौटी का शव बरामद,गौला में नहाने से डूबने से हुई थी मौत

शुक्रवार को देर शाम तक विजिलेंस के पास आदेश की कॉपी नहीं पहुंची थी। बताया जा रहा है कि जल्द ही विजिलेंस इस मामले की जांच शुरू कर सकती है। उत्तराखंड राज्य बनने के बाद तीसरी बार वर्ष 2015 में दरोगा की सीधी भर्ती हुई थी।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी में फंदे पर लटका मिला प्रेमी की लाश, प्रेमिका समान और मोबाइल समान लेकर फरार

इस परीक्षा के माध्यम से पुलिस में 339 दरोगा भर्ती हुए थे। परीक्षा पंतनगर विश्वविद्यालय ने कराई थी। शुरुआत में इस भर्ती के रिजल्ट में आरक्षण का पेच फंसा था। लिहाजा, दो बार रिजल्ट जारी किया गया था। अब इसमें धांधली की बात सामने आ रही है।

गौरतलब है कि पंतनगर विश्वविद्यालय ने दरोगाओं के 339 पदों पर भर्ती परीक्षा का आयोजन किया था। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के भर्ती घपले के अलावा दो और भर्तियों की जांच एसटीएफ को मिलने के बाद 2015-16 की भर्ती पर सवाल उठाने वाली तमाम पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थीं।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी निवासी फौजी हिमांशु दफौटी का शव बरामद,गौला में नहाने से डूबने से हुई थी मौत

लगातार सवाल उठ रहे थे कि दूसरी भर्तियों में खुलासे करने वाला पुलिस महकमा अपनी ही भर्तियों की जांच क्यों नहीं कर रहा है? विभागीय सूत्रों ने बताया कि पुलिस ही पुलिसकर्मियों की जांच करती तो इस पर सवाल उठने लाजिमी थे। इसी कारण पुलिस मुख्यालय ने इसकी जांच विजिलेंस या किसी दूसरी स्वतंत्र एजेंसी से कराने का प्रस्ताव गृह विभाग को भेजा।

अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें