एक ही परिवार के 7 लोगों का शव नदी में मिला, हत्या के मामले में 5 गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें

हत्या के एक मामले में पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया है बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र के पुणे जिले में एक परिवार के सात सदस्यों की मौत के मामले की जांच कर रही पुलिस ने संकेत दिया है कि बेटे की मौत से जुड़ी एक पिछली घटना को लेकर उनके रिश्तेदारों ने कथित तौर पर उनकी एक ही परिवार के 7 सदस्यों की हत्या कर कर दी है. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि मृतकों की पहचान मोहन पवार (45), उनकी पत्नी संगीता मोहन (40), उनकी बेटी रानी फुलवारे (24), दामाद श्याम फुलवारे (28) और तीन से सात साल की आयु के तीन बच्चों के रूप में हुई है।सातों शवों को 18 जनवरी से 24 जनवरी के बीच पुणे जिले की दौंड तहसील में परगांव पुल के पास भीमा नदी से बरामद किया गया था।

पुलिस के मुताबिक 18 जनवरी से 22 जनवरी के बीच मिले थे, जबकि तीन शव मंगलवार को पुणे शहर से करीब 45 किलोमीटर दूर दौंड तहसील के यवत गांव के बाहरी इलाके में भीमा नदी पर परगोन पुल के पास मिले थे. पुणे ग्रामीण पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने सात लोगों की मौत के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है और दफा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया है

यह भी पढ़ें 👉  गर्मी ने बनाया रिकॉर्ड: हल्द्वानी,देहरादून में 14 साल बाद टूटा तापमान का रिकॉर्ड बाजारों में सन्नाटा; देखिए कितना पहुंचा तापमान

पुलिस ने पांच भाई-बहनों अशोक कल्याण पवार, श्याम कल्याण पवार, शंकर कल्याण पवार, प्रकाश कल्याण पवार और कांताबाई सर्जेराव जाधव को हत्या के मामले में गिरफ्तार किया है, जो मृतक मोहन पवार के चचेरे भाई हैं.

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: लालकुआं इंडियन ऑयल डिपो से लगे झाड़ियां में लगी भीषण आग बड़ा हादसा होने से टला-देखे-VIDEO

पुणे ग्रामीण पुलिस के जांच के दौरान कुछ तथ्य सामने आए जिससे संकेत मिलता है कि सभी मृतकों की हत्या की गई थी. उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया यह समझा जाता है कि आरोपी अशोक पवार के बेटे धनंजय पवार की कुछ महीने पहले एक दुर्घटना में मौत हो गई थी और इससे संबंधित एक मामला पुणे शहर में दर्ज किया गया था

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: पुलिस के सामने भिड़ीं सास-बहू, जीजा-साले में जमकर हुआ जूतमपैजार-जाने फिर क्या हुआ

प्रथम दृष्टया यह समझा जाता है कि आरोपी अशोक पवार के बेटे धनंजय पवार की कुछ महीने पहले एक दुर्घटना में मौत हो गई थी और इससे संबंधित एक मामला पुणे शहर में दर्ज किया गया था.

, “प्रथम दृष्टया जांच से संकेत मिलता है कि अशोक गुस्से में था और उसने धनंजय की मौत के लिए मोहन के बेटे को जिम्मेदार ठहराया. अशोक के बेटे की मौत का बदला लेने के लिए इन सात लोगों की हत्या की गई है.

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें