दारोगा भर्ती घोटाले में 20 दारोगा पर गाज गिरने के बाद कई और दारोगा भी रडार पर

ख़बर शेयर करें

दरोगा भर्ती धांधली में विजिलेंस की रिपोर्ट पर प्रदेश के 20 दरोगाओं को निलंबित कर दिया गया है। ये दरोगा जांच पूरी होने तक निलंबित ही रहेंगे। प्रथम दृष्टया जांच में इन दरोगाओं के नकल करने की बात सामने आई है। हालांकि मुकदमे में अभी किसी भी दरोगा को नामजद नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि यह फेहरिस्त अभी और भी लंबी हो सकती है।

वर्ष 2015-16 में कांग्रेस की तत्कालीन कांग्रेस सरकार में दारोगा के 339 पदों पर सीधी भर्ती की परीक्षा गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रोद्यौगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर ने कराई थी। प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के आधार पर 20 दारोगा निलंबित यह गए हैं विजिलेंस ने 3 महीनों की कड़ी मेहनत के बाद जांच पड़ताल में स्कूली शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा, स्वजन, करीबी मित्र समेत आर्थिक स्थिति की बारीकी से पड़ताल की गई। सूत्रों की मानें तो भले प्रारंभिक चरण में 20 दारोगा पर गाज गिरी हो, लेकिन अभी कुछ और दारोगा भी रडार पर हैं। इनके निलंबन की कार्रवाई भी जल्द हो सकती है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand: 55 प्रत्याशियों का भविष्य EVM में कम मतदान सियासी दलों की बढ़ाई चिंता किसको होगा नफा, कौन झेलेगा नुकसान-खास रिपोर्टर

भर्ती घोटाले की जांच के दौरान विजिलेंस की टीमों ने संदिग्ध दारोगा के जन्मस्थल से लेकर उनके शैक्षिक संस्थानों तक का पूरा ब्योरा जुटाया। वह किस स्कूल में पढ़ा, किस कोचिंग सेंटर से कोचिंग ली, गांव व मोहल्ले में उसका आचरण, वह पढ़ाई में कैसा था, इन सभी बिंदुओं की जांच की गई।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी: पति-पत्नी मिलकर करते थे चोरी,बनना चाहते थे जल्द करोड़पति- कारनामा जान हो जाएंगे हैरान-देखे-VIDEO


विजिलेंस को संदेह था कि यदि अभ्यर्थी ने मोटी रकम देकर परीक्षा पास की है तो रुपयों का इंतजाम कहीं न कहीं से किया गया होगा। विजिलेंस ने जमीनों तक की जानकारी जुटाई कि कहीं भर्ती के दौरान किसी ने जमीन या मकान आदि बेचकर तो रकम नहीं जुटाई।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand :आठ साल की बेटी को दी ऐसी यातनाएं, सुनकर खड़े हो जाएंगे रोंगटे; कत्ल की वजह भी बताई-देख -VIDEO


भर्ती पर सवाल उठने के बाद पुलिस विभाग की ओर से जब कुछ चयनित दारोगा की गोपनीय जांच कराई गई तो पता चला कि 15 प्रतिशत दारोगा ऐसे हैं, जो केस डायरी तक लिखना नहीं जानते।


पुलिस मुख्यालय की ओर से निलंबित किए गए 20 दारोगा में से अधिकतर के पास चौकी इंचार्ज की जिम्मेदारी है। देहरादून जिले में ही निलंबित हुए पांच दारोगा में से तीन चौकी इंचार्ज थे।

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें