हल्द्वानी:स्वरोजगार का झांसा, किराए की कार व कंप्यूटर सैकड़ो लोगो से करोड़ लेकर जालसाज फरार

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी: मुखानी थानाक्षेत्र से एक बड़ी ठगी का मामला सामने आया है। यहां स्वरोजगार के नाम पर लोगों से जमा की करोड़ों की रकम जालसाज लेकर फरार हो गया। जाते-जाते जालसाज किराए के कार और लैपटॉप भी साथ ले गया। लोगों को पता लगा तो बड़ी संख्या में लोग उसके दफ्तर पहुंच गए, लेकिन वहां ताला लगा था। जिसके बाद लोग शिकायत लेकर मुखानी पुलिस के पास पहुंचे।

पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
इस मामले में विनय रौतेला, भुवन बिष्ट और मनोज पांडे ने संयुक्तरूप से मुखानी पुलिस को तहरीर सौंपी। विनय ने बताया कि अरविंदनगर घोन्डा उत्तरी पूर्वी दिल्ली निवासी अंकुश गुप्ता ने लालडांठ रोड संतोषी माता मंदिर के पीछे शिवालिक टावर में धनलक्ष्मी इंटर प्राइसेस के नाम से दफ्तर खोला था।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:फैंसी नंबर की ऐसी दीवानगी,0005 नंबर के लिए खर्च किए चार लाख से अधिक, इतने में तो आ जाती दूसरी कार

एक पंफ्लेट बांट कर उसने क्षेत्र में प्रचार किया और रुद्राक्ष, चंदन, तुलसी मोती और फैंसी माला बनाकर महीने में 30 हजार रुपये तक कमाने का झांसा दिया। उसने करीब दो हजार लोगों से सिक्योरिटी मनी के तौर पर 15-15 हजार रुपये जमा कराए और लोगों के घरों से माल उठाना शुरू कर दिया। अंकुश ने विनय की दुकान से चार लैपटॉप लिए और बदले में चेक दिया, जो बाउंस हो गया। भुवन बिष्ट और मनोज पांडे से कंपनी के लिए कार किराए पर ली।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:फैंसी नंबर की ऐसी दीवानगी,0005 नंबर के लिए खर्च किए चार लाख से अधिक, इतने में तो आ जाती दूसरी कार


बीती 10 सितंबर की शाम अंकुश ने ऑफिस का सारा सामान समेटा और किराए की कार में लाद कर फरार हो गया। अनुमान है कि उसने दो हजार लोगों से करीब 3 करोड़ रुपये जुटा लिए थे। मुखानी थानाध्यक्ष रमेश बोरा का कहना है कि मामले की जांच की शुरू कर दी गई। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:पति के प्रेमिका से परेशान पत्नी ने ननद-देवरानी के साथ मिल कर दिया कांड

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें