हल्द्वानी:कोरोना वेरिएंट बीएफ 7 को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट , टेस्टिंग बढ़ाने के दिए निर्देश

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी:देश में कोरोना के नए वेरिएंट बीएफ 7 के अलर्ट के बाद अब नैनीताल जिले में भी स्वास्थ्य महकमा सजग हो गया है। नैनीताल जोकि पर्यटक स्थल है देश-विदेश से सैलानी भी यहां आएंगे लिहाजा स्वास्थ्य महकमे को टेस्टिंग और सर्विलांस बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।

सीएमओ डॉ भागीरथी जोशी का कहना है कि कोरोना के पहले और दूसरे चरण की लगभग सारी व्यवस्थाएं जिले में स्वास्थ्य महकमे के पास उपलब्ध हैं। अब केवल टेस्टिंग और ट्रेसिंग पर ध्यान देना है इसके अलावा बूस्टर डोज को लेकर भी ज्यादातर कैंप लगाए जाएंगे

फिलहाल जिले में कोरोना वैक्सीन की कमी चल रही है जैसे ही बूस्टर डोज उपलब्ध होंगे फिर से व्यापक पैमाने पर यह अभियान शुरू किया जाएगा। साथ ही जिले में किसी प्रकार का कोई खतरा नहीं है लेकिन आने वाले दिनों के लिए स्वास्थ्य महकमा सतर्क है।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:पति के प्रेमिका से परेशान पत्नी ने ननद-देवरानी के साथ मिल कर दिया कांड

सीएमओ भागीरथी जोशी ने बताया किवेरिएंट बीएफ 7 के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग को बढ़ाएं इसके अलावा अस्पतालों में आने वाले सर्दी जुकाम सहित अन्य संक्रमण बीमारियों से ग्रसित लोगों के कोविड-19 टेस्ट कराई जाए।

उन्होंने कहा कि थर्टी फर्स्ट और नए साल के मौके पर नैनीताल में भारी संख्या में पर्यटक भी पहुंचेंगे ऐसे में विदेशी पर्यटकों के भी आने की संभावना है स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया है कि नैनीताल में अतिरिक्त कैंप लगाकर बाहर से आने वाले सैलानियों की टेस्टिंग भी की जाए जिससे कि इस संक्रमण बीमारी को फैलने रोका जा सके।

यह भी पढ़ें 👉  हल्द्वानी:फैंसी नंबर की ऐसी दीवानगी,0005 नंबर के लिए खर्च किए चार लाख से अधिक, इतने में तो आ जाती दूसरी कार

आखिर क्या है कोरोना का BF.7 वैरिएंट
दरअसल, चीन में इस समय कोरोना का BF.7 वैरिएंट फैला है। इस वैरिएंट को अब तक सामने आए वैरिएंट में से सबसे ज्यादा तेजी से फैलने वाला माना जा रहा है। यही कारण है कि चीन में अचानक से कोरोना ब्लास्ट हो गया। आपको बता दें कि कोरोना के इससे पहले भी कई वैरिएंट मिले हैं।

यह भी पढ़ें 👉  Uttarakhand:पति के प्रेमिका से परेशान पत्नी ने ननद-देवरानी के साथ मिल कर दिया कांड

विशेषज्ञों का कहना है कि यह वैरिएंट कोरोना वायरस के स्पाइक प्रोटीन में एक विशेष म्यूटेशन से बना है। ऐसे में इस वैरिएंट से पीड़ित शख्स में एंटीबॉडी का असर नहीं होता है। ऐसे में साफ है कि इसपर कोरोना वैक्सीन का ज्यादा असर नहीं होगा और जो लोग कोरोना से पहले पीड़ित हो चुके हैं, उन्हें भी यह वैरिएंट अपनी चपेट में ले सकता है।

Advertisements
अपने मोबाइल पर प्रगति टीवी से जुड़ने के लिए नीचे दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करें -

👉 व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन करें

👉 फेसबुक पेज़ को लाइक करें

👉 यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

👉 अपने क्षेत्र की खबरों के लिए 8266010911 व्हाट्सएप नंबर को अपने ग्रुप में जोड़ें